बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
आसिया बीबी की रिहाई के बाद विरोध प्रदर्शन एवं बंद आसिया बीबी की रिहाई के बाद विरोध प्रदर्शन एवं बंद  (ANSA)

आसिया बीबी की रिहाई के विरोध के कारण स्कूल बंद

राजधानी इस्लामाबाद में चरमपंथी विरोध प्रदर्शन के कारण पुलिस ने पंजाब राजमार्गों को बंद कर दिया। अधिकारी संवेदनशील क्षेत्रों में "लाल क्षेत्र" सहित केंद्रीय नियंत्रण केंद्र से स्थिति की निगरानी की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

लाहौर, बृहस्पतिवार, 1 नवम्बर 2018 (एशियान्यूज)˸ 31 अक्टूबर को पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने आसिया बीबी को सभी आरोपों से बरी कर दिया। ईशनिंदा के आरोप में उन्हें नौ सालों जेल में बीताना पड़ा। इस ख्रीस्तीय महिला की रिहाई के कारण पूरे देश में विरोध और भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। 

स्कूल बंद

इस्लामी चरमपंथियों ने बड़े शहरों में प्रदर्शन और सड़क जाम का आह्वान किया। इस स्थिति को देखते हुए लाहौर की कलीसिया के अधिकारियों ने स्कूलों को अनिश्चितकाल के लिए बंद रखने का आदेश दिया तथा अभिभावकों से आग्रह किया कि वे बच्चों को घर ले जाएँ।

पाकिस्तान के राईविंड धर्मप्रांत द्वारा संचालित संत पेत्रुस उच्च विद्यालय में लगी सूचना में कहा गया है कि "अगली सूचना तक स्कूल बंद रहेगा।" 

पुलिस का प्रयास

बिगड़ती हालात के मद्देनजर पंजाब प्रांत ने दंड संहिता की धारा 144 की अपील की जो चार से अधिक व्यक्तियों के सार्वजनिक प्रदर्शन को रोकता है। पर लाहौर में सड़कों पर चरमपंथियों को रोकना अध्यादेश से काफी नहीं था। 

पुलिस चेकनाका ने तहरीक-ए-लब्बाइक प्रदर्शनकारियों को प्रांतीय असेंबली भवन तक पहुंचने से रोक दिया। लाहौर के सबसे बड़े ईसाई परिक्षेत्र, यूहानाबाद में रेंजर्स तैनात किए गए थे। पहली गिरफ्तारी मुल्तान शहर में हुई। पंजाब के बाद, सिंध ने भी धारा 144 के तहत आतंकवादी गतिविधियों के लिए सार्वजनिक सभाओं पर प्रतिबंध लगा दिया। स्थानीय अधिकारियों ने "मौजूदा कानून व्यवस्था की निगरानी" करने और विभिन्न एजेंसियों- पुलिस, अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों, आयुक्त और उनके प्रतिनिधि के साथ संपर्क करने के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया।

विरोध प्रदर्शन का आह्वान

इस बीच, तहरीक-ए-लब्बाइक पाकिस्तान ने पूरे शहर को रोकने के लिए कराची में वचनबद्ध पावर हाउस चौरंगी चौराहे को अवरुद्ध कर दिया।

संघीय राजधानी इस्लामाबाद में, जमात-ए-इस्लामी पार्टी ने विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए मुसलमानों का आह्वान किया।

राजधानी क्षेत्र के उप आयुक्त, मुहम्मद हमजा शाफकत ने ट्वीट पर जानकारी दी कि "अकबर चौक और फैजाबाद अवरुद्ध हैं", लेकिन "बारा काहू, तरणोल और कश्मीर राजमार्ग अभी भी खुले हैं।" पुलिस ने रावल झील के आसपास "लाल क्षेत्र" घोषित किया था।

 

01 November 2018, 15:39