Cerca

Vatican News
गाजा चक्रवात के बाद राहत कार्यों में जुटे लोग गाजा चक्रवात के बाद राहत कार्यों में जुटे लोग  (AFP or licensors)

गाजा चक्रवात के बाद राहत अभियान में भारतीय कलीसिया

तमिलनाडु में विध्वंसकारी चक्रवात "गाजा" के कारण गिरजाघर तथा मरियम तीर्थस्थल समेत हजारों घर ध्वस्त हो गये हैं। राहत सेवा में कलीसिया के स्वंयसेवक सरकार के साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

भारत, मंगलवार, 20 नवम्बर 2018 (वाटिकन न्यूज)˸ तमिलनाडु में पिछले सप्ताह शुक्रवार को भारी वर्षा एवं तेज आँधी के कारण करीब 46 लोगों की मौत हो गयी, साथ ही, खेती योग्य जमीन एवं हजारों घर बर्बाद हो गये हैं।   

सरकार तेजी से राहत कार्य कर रही है उसके साथ काथलिक कलीसिया भी थंजावूर धर्मप्रांत एवं पोंडिचेरी कुद्दालोरे महाधर्मप्रांत के आपदा पीड़ित लोगों की सहायता कर रही है।  

अधिकारियों से मिली जानकारी अनुसार करीब 46 लोग मृत्यु के शिकार हो गये हैं तथा लगभग एक लाख लोग विस्थापित हैं। कारीतास इंडिया के स्थानीय अधिकारी जॉन अरोकियाराज ने कहा, "एक लाख 22 हजार से अधिक लोगों को घर खाली कराकर 351 राहत शिविरों में रखा गया है जबकि राहत सेवा दल गाँवों में लोगों की मदद कर रहा है जो आँधी के कारण खो गये हैं।

उन्होंने कहा कि कम से कम 10,120 घर पूरी तरह ध्वस्त हो गये हैं जबकि 5,770 घरों आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हैं। 1300 नाव तथा मछली मारने के उपकरण भी क्षतिग्रस्त हो गये हैं। मवेशी, फसल और नारियल के पेड़ भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

धर्मप्रांत के चांसलर फादर जॉन जकारियस ने बतलाया कि थंजावूर धर्मप्रांत सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। हमारे लोगों की जीविका नष्ट हो गयी है। मछली मारने के उपकरण एवं खेती की जमीन बर्बाद हो चुके हैं।

वेलांकनी मरियम तीर्थस्थल

30 से अधिक गिरजाघर जिनमें वेलांकनी में स्वास्थ्य की महारानी गिरजाघर भी शामिल है तथा 60 प्रार्थनालय एवं 15 स्कूल घर चक्रवात के कारण क्षतिग्रस्त हो गये हैं।

मरियम तीर्थस्थल के रेक्टर फादर मरिया अंतोनी प्रभाकर ने कहा कि तीर्थस्थल के ऊपर लगा क्रूस उड़ा लिया गया है तथा 20 मीटर ऊँची येसु की प्रतिमा के हाथ भी क्षतिग्रस्त हुए हैं।  

भारतीय धर्माध्यक्षों की सहानुभूति

भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने इस प्राकृतिक आपदा से पीड़ित सभी लोगों के प्रति अपनी एकात्मता व्यक्त की है तथा वे उस प्रांत के सभी लोगों की मदद करना चाहते हैं।

सीबीसीआई के महासचिव धर्माध्यक्ष थेओदोर मसकरेनहास ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, "हम मृतकों की आत्मा शांति हेतु प्रार्थना करते हैं तथा प्रभावित परिवारों को सांत्वना एवं दिलासा देते हैं।"

उन्होंने कहा कि कारीतास इंडिया क्षति का अवलोकन कर रही है तथा वह जल्द ही राहत कार्यों द्वारा मदद पहुँचायेगी। काथलिक धर्माध्यक्षों ने इच्छा जाहिर की कि वे पीड़ित लोगों की मदद करने हेतु सरकार एवं भली इच्छा रखने वाले सभी लोगों के साथ मिलकर कार्य करना चाहते हैं।

20 November 2018, 15:39