बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
संत पापा का प्रेरितिक प्रबोधन संत पापा का प्रेरितिक प्रबोधन 

"गौदाते एत एसुलताते" पर आठ सभाएँ

रोम स्थित संत जॉन लातेरन में संत पापा फ्राँसिस के प्रेरितिक प्रबोधन ‘गौदाते एत एसुलताते’ पर आठ सभाएँ आयोजित की गयी हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

रोम धर्मप्रांत के विखारियेट से जारी एक प्रेस विज्ञाप्ति में इस बात की पुष्टि दी गयी है कि सभा 8 अक्टूबर से शुरू होगी। सभा में कार्डिनल अंजेलो दे दोनातिस एवं मोनसिन्योर मार्को फ्रिसिना दस्तावेद पर प्रकाश डालेंगे।

पहल की घोषणा कार्डिनल अंजेलो ने अगस्त माह के अंत में लुर्द में धर्मप्रांतीय तीर्थयात्रा के दौरान की थी। उन्होंने कहा था कि सोमवार 8 अक्टूबर से संत पापा के प्रेरितिक प्रबोधन "गौदाते एत एसुलताते" पर कई सभाएँ होंगी जिसके मुख्य प्रणेता वे स्वयं एवं संत सिसिलिया महागिरजाघर के अध्यक्ष मोनसिन्योर फ्रिसिना होंगे।

सभा का कार्यक्रम

आठ मासिक सभाओं की शुरूआत संध्या 7 बजे संत जॉन लातेरन महागिरजा में होगी जिसके लिए नामांकन की आवश्यकता नहीं है। हर सभा का मुख्य भाग "आधुनिक विश्व में पवित्रता की बुलाहट" को समर्पित किया जाएगा तथा एक संत अथवा एक धन्य के आदर्श प्रस्तुत किये जायेंगे।

हर सभा की शुरूआत एक गीत से होगी, उसके बाद गौदाते एत एसुलताते से पाठ किया जाएगा, फिर कार्डिनल दे दोनातिस एवं मोनसिन्योर फ्रिसिना द्वारा व्याख्या एवं चिंतन होगा। सभा का समापन कार्डिनल दोनातिस द्वारा एक प्रार्थना से की जाएगी।

प्राप्त जानकारी अनुसार, पहली सभा 8 अक्टूबर को होगी, दूसरी सभा 12 नवम्बर को, तीसरी सभा 10 दिसम्बर को, चौथी सभा 7 जनवरी 2019 को, पाँचवीं सभा 11 फरवरी को, फिर छटवीं सभा 11 मार्च को, सातवीं सभा 15 अप्रैल को तथा अंतिम सभा 13 मई को होगी।

04 October 2018, 16:44