Cerca

Vatican News
रोम का संत पंख्रासियुस काटेकुम्ब रोम का संत पंख्रासियुस काटेकुम्ब  (Frank Bach - frank@frankix.dk)

यूरोपीय विरासत वर्ष पर ‘प्रथम काटेकुम्ब दिवस’

13 अक्तूबर को प्रथम काटेकुम्ब दिवस के अवसर पर रोम के सभी काटेकुम्ब दर्शकों के लिए खुले हैं

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, शनिवार, 13 अक्तूबर 2018 (रेई) : यूरोपीय विरासत वर्ष के अवसर पर पवित्र पुरातत्व के लिए परमधर्मपीठीय आयोग ने आज शनिवार, 13 अक्तूबर को प्रथम काटेकुम्ब दिवस निर्धारित किया है। आज रोम के सभी काटेकुम्ब दर्शकों के लिए खुले हैं अर्थात कोई प्रवेश शुल्क नहीं लगेगा।

रोम का काटेकुम्ब

रोम स्थित संत कलिस्तो काटेकुम्ब, संत सेबास्टियन काटेकुम्ब, संत दोमेतिला काटेकुम्ब, संत प्रिसिल्ला काटेकुम्ब, संत आग्नेस काटेकुम्ब, संत मर्चेलिनो और संत पियेत्रो काटेकुम्ब तो साल भर दर्शकों के लिए खुला रहता है। आज विशेष रुप से यूनानी शहीदों के महागिरजाघर, संत कलिस्तो प्रांत का टोरेटा संग्रहालय, संत पंक्रासियुस, संत लौरेंस और संत अलेक्जांडर का काटेकुम्ब भी दर्शकों के लिए खुले हैं।

संत पापा द्वारा आभार प्रकट

विदित हो कि संत पापा फ्राँसिस ने गत रविवार 7 अक्टूबर को संत पेत्रुस महागिरजाघऱ के प्राँगण में देवदूत प्रार्थना के बाद यात्रियों को जानकारी दी थी कि अगले शनिवार 13 अक्टूबर को प्रथम काटेकुम्ब दिवस के अवसर पर रोम स्थित विभिन्न कटेकुम्ब स्थलों को सार्वजनिक रूप से खोल दिया जाएगा। उन्होंने इसकी व्यवस्था करने हेतु पवित्र पुरातत्त्व के लिए परमधर्मपीठीय आयोग को धन्यवाद दिया।

रोम के काटेकुम्ब पूर्व भूमिगत दफन मैदान हैं जो कि दूसरी से पांचवीं शताब्दी में मुख्य रूप से ख्रीस्तियों और यहूदियों द्वारा उपयोग किया जाता था। काटेकुम्ब शब्द का अर्थ है "खदान के बगल में", इस तथ्य से आता है कि रोम के बाहरी इलाके में दफन की जगह के रूप में उपयोग किए जाने के लिए पहले से ही खुदाई कर तैयार रखी जाती थी।

13 October 2018, 15:42