बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस 

संत पापा के आह्वान का उदार प्रत्युत्तर दें, कार्डिनल ग्रेसियस

कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस ने 1 सितम्बर को मुम्बई महाधर्मप्रांत में "हरा धर्मप्रांत" पहल का उद्घाटन किया। मुम्बई महाधर्मप्रांत के इस पहल का उद्देश्य है विश्व में पर्यावरण संकट के प्रति काथलिक कलीसिया की चिंता की ओर सभी का ध्यान आकृष्ट करना।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

भारत के मुम्बई महाधर्मप्रांत ने सृष्टि के प्रति काथलिक कलीसिया की विशेष चिंता को ध्यान देते हुए महाधर्मप्रांत को, "हरा धर्मप्रांत" घोषित किया है।

मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस ने एक वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा था कि महाधर्मप्रांत सृष्टि की देखभाल हेतु हरे धर्मप्रांत पहल की शुरूआत करेगी जिसका उद्घाटन 1 सितम्बर, सृष्टि की देखभाल हेतु विश्व प्रार्थना दिवस पर किया जाएगा।                              

संत पापा फ्राँसिस ने आमघर की देखभाल पर 2015 में एक प्रेरितिक विश्व पत्र प्रकाशित किया और बाद में उसी साल उन्होंने सृष्टि की रक्षा के लिए विश्व प्रार्थना दिवस भी घोषित की थी।

सृष्टि के प्रति सम्मान, नैतिक मामला

15 अगस्त को प्रकाशित संदेश में कार्डिनल ग्रेसियस ने कहा है कि "ईश्वर की सृष्टि के प्रति सम्मान एवं उसकी गिरावट के कारण जलवायु परिवर्तन संकट से प्रभावित लोगों के प्रति सहानुभूति रखना, आज के ख्रीस्तियों के लिए एक नैतिक मामला बन गया है।

कार्डिनल ने संदेश में अपने विश्वासियों को निमंत्रण दिया है कि वे संत पापा फ्राँसिस के आह्वान का उदारता पूर्वक प्रत्युत्तर देते हुए हरे धर्मप्रांत अभियान में शामिल हों। उन्होंने सहायक धर्माध्यक्ष अलोइन डीसिलवा को महाधर्मप्रांत में पर्यावरण विभाग का शीर्ष नियुक्त किया है। 

उन्होंने कहा, "मैं महाधर्मप्रांत में सभी को इस मिशन को पूरी तरह से स्वीकार करने हेतु प्रोत्साहन देता हूँ जिसके लिए प्रभु हमें बुला रहे हैं।"

01 September 2018, 15:30