बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
कंधमाल में 2008 में ख्रीस्तीयों पर अत्याचार हुआ था कंधमाल में 2008 में ख्रीस्तीयों पर अत्याचार हुआ था  

ओडिशा के काथलिक पुरोहित हुए सम्मानित

भारतीय काथलिक पुरोहितीय सम्मेलन (सीपीसीआई) ने ओडिशा के एक काथलिक पुरोहित अजय कुमार सिंह को अल्पसंख्यकों तथा मानव अधिकार को बढ़ावा देने हेतु उनके समर्पण के लिए सम्मानित किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

सीपीसीआई के सचिव फादर फिलिप काट्टाकायाम ने मैटर्स इंडिया से कहा, "हम फादर अजय कुमार सिंह को सीपीसीआई राष्ट्रीय सम्मेलन तथा वार्षिक आम सभा में सम्मानित कर रहे हैं जो ओडिशा स्थित कटक भुनेश्वर महाधर्मप्रांत के पुरोहित हैं। उन्हें मानव अधिकार तथा हाशिये पर जीवन यापन करने वालों के कल्याण हेतु किये गये कार्यों के लिए सम्मानित किया जा रहा है।" ओडिशा सम्बलपुर के धर्माध्यक्ष निरंजन सौल सिंह ने सीपीसीआई की ओर से अजय कुमार सिंह की सराहना करते हुए उन्हें एक पट्टिका देकर सम्मानित किया।

संविधान की पृष्ठभूमि पर फादर सिंह सभा के मुख्य प्रवक्ता

25 सितम्बर को आयोजित सभा में फादर सिंह मुख्य प्रवक्ता थे जिसमें पूरे भारत के करीब 42 काथलिक पुरोहित एकत्रित थे, जिन्होंने भारत के संविधान की पृष्ठभूमि पर सामाजिक न्याय एवं मानव अधिकार पर विचार किया। फादर अजय वर्तमान में ओडिशा प्रांतीय फोरम में सामाजिक कार्य के निदेशक हैं। ओडिशा क्षेत्रीय काथलिक धर्माध्यक्ष परिषद के तहत, यह छह काथलिक धर्माध्यक्षों का सामाजिक कार्य समन्वय निकाय है।

समाज सेवा के क्षेत्र में फादर अजय के कार्य

फादर सिंह ने अपने वकालत में अल्पसंख्यकों, दलित एवं आदिवासियों के मानव अधिकारों का समर्थन, विभिन्न हितधारकों, जैसे, सरकारी अधिकारियों, लेखकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के बीच किया है।

ओडिशा के कंधमाल अत्याचार के विरूद्ध अभियान चलाने के लिए उन्हें 2013 में राष्ट्रीय अल्पसंख्यकों पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। फादर अजय जो कंधमाल जिला से आते हैं उन्होंने भुनेश्वर से ग्रामीण प्रबंधन में एमबीए की पढ़ाई की है। इसके पूर्व उन्होंने कटक भुनेश्वर के कई पल्लियों में सहायक पल्ली पुरोहित के रूप में सेवाएँ दी हैं।

27 September 2018, 15:48