बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
केरल की सहायता हेतु मुसलमानों का दान संग्रह केरल की सहायता हेतु मुसलमानों का दान संग्रह  (AFP or licensors)

कंधमाल ख्रीस्तीय द्वारा केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए प्रार्थना

ओड़िशा के काथलिक खासकर, कंधमाल के विश्वासियों ने 19 अगस्त को, केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

राईकिया के उदारता की माता मरियम पल्ली में 19 अगस्त को केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए ख्रीस्तयाग अर्पित किया गया था। ख्रीस्तयाग में भाग लेने वाले फादर मनोरंजन सिंह ने कहा, "2007-2008 में कंधमाल हिंसा के समय हमारी सहायता करने वालों में केरल के लोग सबसे आगे थे।" ख्रीस्तीय विरोधी हिंसा से बचे हुए 3000 से अधिक लोगों ने ख्रीस्तयाग में हिस्सा लिया।

सच्चा मित्र

फादर मनोरंजन स्वयं ख्रीस्तीय विरोधी हिंसा के शिकार हुए थे। उन्होंने कहा, "यह कहा गया है कि आवश्यकता में मदद करने वाला मित्र ही सच्चा मित्र होता है। हम केरल वासियों के समारितानी मनोभाव की याद करें।"

ख्रीस्तयाग के मुख्य अनुष्ठाता फादर जिबान्ता नायक जो तियनजा गाँव के हैं जो उस हिंसा से बुरी तरह प्रभावित हुआ था उन्होंने कहा कि ख्रीस्तयाग लोगों को आध्यात्मिक रूप से बढ़ने एवं आपसी संबंधों को मजबूत करने में मदद करता है।

उड़ीसा के विभिन्न पल्लियों में केरल के लिए प्रार्थना

कटक भुवनेश्वर के महाधर्माध्यक्ष जोन बारवा ने कहा, "उड़ीसा की कलीसिया केरल के लोगों के प्रति सहानुभूति प्रकट करती है तथा उन सभी परिवारों को अपनी हार्दिक संवेदना प्रकट करती है जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है। 

कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस ने भारत की काथलिक कलीसिया से अपील की है कि वे केरल की सहायता उदारता पूर्वक करें।

महाधर्माध्यक्ष बारवा ने कहा, "आइये, हम पुनर्वास एवं जीविका की रक्षा द्वारा लोगों के जीवन एवं समुदाय के पुनःनिर्माण हेतु आर्थिक सहायता प्रदान करें।"

बाढ़ पीड़ितों की आध्यात्मिक और आर्थिक सहायता

मानव अधिकार कार्यकर्ता फादर अजय सिंह ने कहा कि वे बाढ़ पीड़ितों की सहायता हेतु फंड जमा करेंगे। उन्होंने कहा, हम प्रत्येक व्यक्ति, पल्ली तथा संस्थाओं से इसके लिए आग्रह करेंगे। केरल के लोगों ने हमेशा हमारा साथ दिया है। हमें भी तत्काल राहत कार्यों द्वारा स्वयंसेवक बनकर उनकी मदद करनी चाहिए।

ओड़िशा में कार्यरत बड़े धर्मसमाज डिवाईन सोसाईटी (एसडीवी) ने अपने धर्मसमाज से केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद करने की अपील की है।

केरल के पुरोहितों एवं धर्मबहनों द्वारा निःस्वार्थ सेवा की याद

कंधमाल हिंसा से बचने वालों के संगठन के अध्यक्ष बिप्रो चरन नायक ने ओडिशा में सेवारत केरल के पुरोहितों एवं धर्मबहनों के निःस्वार्थ सेवा को स्वीकार करते हुए कहा, "हम केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए विशेष प्रार्थना एवं निवेदन अर्पित करते हैं।"

कंधमाल में 17 अगस्त को केरल के लिए प्रार्थना एवं उपवास का दिन रखा गया था, जहाँ पवित्र यूखारिस्त की आराधना की गयी।

उदारता की पुत्रियों के धर्मसमाज की धर्मबहन अन्ना पल्लासेले (जो केरल की है) ने बतलाया कि उनका घर पूरी तरह पानी में डूब गया है। उन्होंने कहा, "हमने सबकुछ खो दिया है।" सिस्टर अन्ना कंधमाल के राईकिया स्थित दावाखाना में सेवारत हैं। 

केरल में बाढ़ के कारण करीब 400 लोगों की मृत्यु हो गयी और हजारों लोग बेघर हो गये हैं। 

22 August 2018, 17:16