बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कार की घोषणा 2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कार की घोषणा 

2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कार विजेताओं में दो भारतीय

एशिया के नोबेल पुरस्कार माने जाने वाले 2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कारों की घोषणा कर दी गई है। इस साल इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिये छः व्यक्तियों को चुना गया है

जूलयट क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

मनीला, शुक्रवार, 27 जुलाई 2018 (एपी): 2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कार विजेताओं में भारत के डॉ. भरत वाटवाणी और डॉ. सोनम वांगचुक भी शामिल हैं।

फिलीपिन्स के मनीला में, एशिया के नोबेल पुरस्कार माने जाने वाले 2018 के रामॉन मैग्सेसे पुरस्कारों की घोषणा कर दी गई है। इस साल इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिये छः व्यक्तियों को चुना गया है।

 

दो भारतीय

मुंबई के डॉ. भरत वाटवाणी को सड़क पर भीख मांगने वाले, मानसिक तौर पर बीमार हज़ारों गरीबों के इलाज के साथ-साथ उन्हें उनके परिवार वालों से मिलाने के क्षेत्र में किये गये कार्यों के लिये यह पुरस्कार दिया गया। इसी प्रकार, लद्दाख के इंजीनियर और शिक्षा सुधारक सोनम वांगचुक को शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए इस पुरस्कार के लिये चुना गया है।

डॉ. भरत वाटवाणी ने मुंबई की सड़कों पर जीवन यापन करनेवाले मानसिक रोगियों को आश्रय देने, खाना मुहैया कराने, दिमागी इलाज कराने और परिवार से मिलवाने के मकसद से सन् 1988 में श्रद्धा रिहैबिलिटेशन फाउंडेशन की स्थापना की थी। यह न्यास मानसिक विकारों से ग्रस्त लोगों का इलाज कराने के साथ-साथ घर से बिछड़े लोगों को उनके परिवार से भी मिलाने के नेक कार्यों में संलग्न है। उनके इस सराहनीय प्रयास को पुलिस और सामाजिक कार्यकतार्ओं का भरपूर साथ मिला है।

इसी बीच, सोनम वांगचुक को उत्तर भारत के दूरस्थ इलाकों में शिक्षा प्रदान करने तथा लद्दाखी युवाओं के जीवन में व्यापक समुदाय संचालित सुधार लाने के लिये जाना जाता है। 1988 में इंजिनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद सोनम वांगचुक ने स्टूडेंट्स एजुकेशन ऐंड कल्चरल मूवमेंट ऑफ लद्दाख (एसईसीएमओएल) की स्थापना की थी। वांगचुक को एसईसीएमओएल परिसर को डिजाइन करने के लिए भी जाना जाता है जो पूरी तरह से सौर-ऊर्जा पर चलता है और खाना बनाने, प्रकाश या गर्मी के लिए जीवाश्म ईंधन का उपयोग नहीं करता है।

अन्य विजेता

अन्य विजेताओं में कंबोडिया के यौक चैंग, पूर्वी तिमोर के मारिया द लौर्डेस मार्टिस क्रूज, फिलीपींस के हॉवर्ड डी और वियतनाम के वो थी होंग येन शामिल हैं। यह पुरस्कार 31 अगस्त को फिलीपींस के मनीला शहर स्थित सांस्कृतिक केंद्र में प्रस्तुत किए जाएंगे।

रामॉन मैग्सेसे अवार्ड को एशिया के व्यक्तियों एवं संस्थाओं को अपने क्षेत्र में विशेष रूप से उल्लेखनीय कार्य करने के लिए प्रदान किया जाता है, विशेष रूप से, उन एशियाई व्यक्तियों को जो मानव विकास के मुद्दों को साहस और रचनात्मकता के साथ हल ढूढ़ते तथा अपने योगदान से समाज में रचनात्मक परिवर्तन लाते हैं।
 

27 July 2018, 15:56